Wednesday, 28 September 2016

Talk to Pakistan in Pakistan’s language

Talk to Pakistan in Pakistan’s language
Hypocrisy of man is proved when he commits something but when it comes to their chance he decides to at stay back foot and act like he never utter anything earlier. This is what we encounter in the case of Uri attack on 18sept by some infiltrators on an Indian army camp in which various mothers and sisters lost their sons and brothers but our Prime minister before sitting on chair of supreme used to comment that he will act strictly with the terrorism. This is not the first time when our souls are encroached by the terrorism; an eye for an eye will leave this world blind but this theory is not applicable for the terrorist who kill people mercilessly whether for the sake of money or a religion.
Not so foregone, Mumbaikers will never forget those FORTY-EIGHT hours of 26/11 attack in which Mumbai was on calcine by some unidentified gunmen, and then they don’t even know that their bread winners or kindred will make their presence in the home again. “we have to punish “ by our former security adviser M.K Narayan when our former Prime Minister Manmohan Singh called an emergency meeting, so that they can make some important decision .the evidence that the Lashker-e-Taiba was involved in this attack, Nation Security adviser pointed it out, was irrefutable. On the other side where our Air Force was ready for Air Strike but they could not do so because our intelligence could not provide adequate digital information of the Lashkar camps, cited by Fali Homi Major (Air Force Chief) but our General Deepak Kapoor flatly said we could not do surgical strike .
It’s quite easy to comment or find loop holes in others business because it’s human tendency- “they did nothing” said candidly by our current Prime Minister Narendra Modi in a campaign speech centered on 26/11 attack “talk to Pakistan in Pakistan’s language. But now our prime minister has this opportunity to act on what he said in his speech when our nation’s saviors were killed in their camp. Ajit Doval, National Security advisor called top military and intelligence meeting to prepare plan how we can retaliate this jihadist but what was the outcome of the summit was few option on which we can think.
The first one was an old fashion in which our Indian Army can act, using eye for a tooth rules where both the armies armed well. Ideally, Pakistan army is helping in retaliation of terrorist which has been proved various times by the evidences and arms used in attack of Uri. Talk about raids and on the other side Pakistan let the infiltration, which Indian will get hurt more than Pakistan.
The second one is attractive to the heated Indian or a politician, is air strike on jihadist target across the LoC but stop short of outright conflict. India’s ability to conduct has been significantly enhanced but not proved to be profitable outcome. In 1998 US fired missiles seeking to avenge bombing which killed 224people but result of that attack of 76 missiles they killed only 6 jihadist, in all a missile’s cost was 1.5 million$. But what if Pakistan hits back to India, targeting to industries’ and infrastructure which results more loss to the Indian side

To be continuing…

Please leave your comment  

Wednesday, 21 September 2016

Welcome to the nucleus of Indian tourism-the Golden Triangle

India- the origin of races has faced bloodshed and euphoria  and having a magnificent past that will urge you to have glimpses of this country. Golden triangle proves to be the inception for the tourist, those who wants to look in to the heart Indian vivid culture and tradition. The journey of 720KM through various regions, culture and tradition will leave an indelible embark on your mind that will keep hovering even after reaching to your home.
Golden triangle dominates in sigh-seeing to various religious places, monuments and wild life with an unforgettable road trip journey across various vegetation and ecosystem.
Why Golden triangle is the nucleus of north Indian tourism?
Voyage to the three golden cities starts with Delhi-where the heart of India lies. Delhi has witnessed various rulers throughout in their past which made it as prominent choice for the various emperor but still has its fervor and energy alive. Various stunning and magnificently built up monuments like Qutub minar, Jama masjid, akshardham temple and many more will leave you spell bound with its meticulously designed monuments. Not only sightseeing you can also the food and shopping in chandani chowk and have the various hotels and restrung-bar for those who loves party. Delhi has various shopping corners for the shopping lovers that offer the cheapest product with its best quality designer clothes shoes and jewellery and much more.
Next stage of our voyage will be Agra-the city of Taj Mahal. This city has outstanding and noteworthy monuments like Taj Mahal, chittor gates and Agra fort. Taj Mahal is one of the seven wonders across the world whch was made by King Shahjahan for their beloved Mumtaj Mahal. Tourist can visit Fatehpur sikri along with taj mahal, these are the living wonders of human creation.
Still the voyage continue to the Pink City- Jaipur, capital of Rjasthan is famous for various monuments like Birla temple, city Palace, Hawa mahal, Jantar Mantar, Jaigarh fort and more. Jaipur is famous for its handicrafts and sandstone jewellery. Wide stretched desert till the eye sight can see in Jaisalmer with its camel ride will leave you breathless and an amazing experience. Rajasthan has various lakes in Udaipur, forts in Jaipur, Jodhpur and Bikaner.
Here our journey will end but not yours, so get up with a bag pack to explore it own instead of reading it.

Char Dham yatra- where you can feel the God

Four junctures of Himaliya is commonly refer as “Char Dham Yatra” which includes the four holy places Kedarnath, Badrinath, Gangotri and Yumunotri.these four shrines are located in Garhwal region of Uttarakhand state in North India.
All of them have different honour according to its God; Bedrinath is dedicated to Lord Vishnu while Kedarnath is dedicated to Lord Shiva. Gangotri and Yamunotri are dedicated to its goddess Ganga and Yamuna respectively. In Hindu religion “char dham yatra” has a very significant role and consider that every Hindu must visit at least once in a life time.
Char Dham Yatra is one of the most popular pilgrimages in india, every year millions of devotees come to pay homage in pursuit of elimination of its sins and attend salvation by the blessing of Gods. Interest for Char Dham is growing internationally which attracts various foreign tourists which is spread in the lap of Himalayan Range with its magnificent beauty and ecosystem.
In hindu mythology, Bedrinath has substantial role when Narayan, the epitome of Vishnu did Tapasya there. Badri is a Sanskrit word which means berry, at the time of Tapasya whole jungle was covered with Bedri trees. Lakshmi who took the shape of bedri tree to save Narayan- this episode made us to call Lakshimi-Narayan unlike Shiva-Parvati.
Kedarnath is 11,55ft above the sea level near Charobari glacier located in Himalayan range.
Its name kedarnath is caption in the honour of king Kedar, who ruled in Sat Yuga and has a daughter name Vrinda, who was a partial incarnation of goddess Lakshmi. Her severity for several year leads to the name of land as Vrindavan. Kedarnath and its temple evoves from Mahabharat Era when Pandavas has doing reparation by praising Lord shiva and its follows a significant role in char dham yatra.
Yamunotri glacier is 12,971ft above the sea level stretched at the bank of Yamuna river in uttarakhand, plays a very significant role in Char Dham Yatra and the temple of yamunotri is 6km away from hanuman chatty, a Garhwal village. Yamunotri holds a high regard to complete the pilgrimage of yatra. It attracts not only Indian pilgrimage but also the foreign tourist across the world.

Gangotri glacier 11,204ft  above the sea level, where river Bhagirathi and Ganga origins. Gangotri temple was built here by the Gorkha general Amar Singh Thapa, where the seat of goddess Ganga and Ganga river origins. King Sagara after killing the domons decided to perform Ashwamedha Yajna to prove his supremacy. 

When you are not around!

 

And when she fluttered her hair with huh..
Looks so tensed dont know why but..
Moment to be captured in the eyes..
Destiny knows the future of two i's..
Will they sail forth together or to stuck...
Their love was pious but not the conditions...
Love is not physical, its spiritual she proved...
Aman 

Sunday, 18 September 2016

धर्म एवं संस्कृति आधारित पत्रकारिता खालसा कालेज में आयोजित हो रहे बेब जर्नलिज्म एवं स्पोर्ट्स इकोनोमिक एण्ड मार्केंटिंग पाठ्यक्रमों की दिनांक 8 सितंबर 2016 की संयुक्त कक्षाओं के छात्रों को आज के अतिथि वाचक वरिष्ट ज्योतिषाचार्य एवम पत्रकार धर्म एवं संस्कृति पं भानुप्रताप नारायण मिश्र ने संबोधित करते हुए पत्रकारिता में धर्म एवं संस्कृति तथा उसके महत्व से अवगत कराया । श्री मिश्र ने बताया कि पत्रकारिता में धर्म एवं संस्कृति के क्षेत्र में कार्य करने से छात्रों को आध्यात्मिक एवं मानसिक ज्ञान के साथ-साथ विभिन्न धर्मों को निकटता से जानने व समझने का अवसर प्राप्त होता है। साथ ही साथ इस प्रकार की पत्रकारिता में धार्मिक यात्राओं के अलावा घर से भी गहन अध्ययन द्वारा भी कर सकते हैं, चूंकि ज्योतिष के अनुसार प्रत्येक धर्म के त्यौहारों का वार्षिक विवरण पंचांग कलैण्डर के रूप में पूर्व निर्धारित हो जाते हैं जिसमें अधिकतर आकस्मिक जैसा कुछ नहीं होता। अत: आवश्यकता होती है उन अनुष्ठानों व त्यौहारों के विषय में आपके पास अधिक से अधिक अध्ययन सामग्री व ज्ञान होने की जो आपके पाठकों को उनके धर्म व संस्कृति के बारे में सरलता व सुगमता से उपलब्ध हो सके, साथ ही साथ पाठ्य सामग्री अध्ययन की दृष्टि से रूचिपूर्ण व वैज्ञानिक दृष्टिकोण से भी तर्कसंगत हो ताकि मानव जीवन को धर्म व संस्कृति के अंधविश्वासों से दूर रख तर्क पूर्ण ढंग से जोड़ा व रखा जा सके । एक उदाहरण प्रस्तुत करते हुए श्री मिश्र ने बताया कि ऐसा माना जाता है कि महाभारत के युद्ध से पूर्व अधिकांश धार्मिक ग्रंथों महर्षि वेद व्यास जी ने लिखे किन्तु महाभारत नामक महाग्रंथ का लेखन महर्षि व्यासजी ने श्री गणेश जी से कराया क्यों कि गणेश जी तीव्र लेखन में सर्वश्रेष्ठ व निपुण थे, इसी से जोड़ते हुए श्री मिश्रजी हम पत्रकार लेखकों को भी श्री गणेशजी को आदर्श स्वरूप मानते हुए किसी भी सजीव घटना का लेखन कार्य में निपुणता प्राप्त करने का महत्वपूर्ण सुझाव भी दिया। श्री मिश्रजी ने छात्रों को चार धामों गंगोत्री, यमुनोत्री, बद्रीनाथ, केदारनाथ, रामेश्वरम्, सोमनाथ, जगन्नाथपुरी की यात्रा के विशेष महत्व से अवगत कराते हुए बताया कि कैसे इन धार्मिक यात्राओं के माध्यम से हम देश की विभिन्न धर्मों की संस्कृतियों से परिचित हो सकतें हैं तथा हिन्दू धर्म के अतिरिक्त मुस्लिम, सिख, ईसाई, बौद्ध तथा पारसी के बारे में पत्रकारिता के माध्यम से उनमें व्याप्त रीतियों व कुरीतियों को निकटता से जानकर मानव समाज के सामने प्रस्तुत कर सकते हैं तथा हिन्दू धर्म के ध्येय "वसुधैव कुटुम्बकम्" से अन्य धर्मों से जोड़कर सही अर्थों में देश की एकता, अखण्डता व सार्वभौमिकता को अधिक सुदृढ़ बनाने में अपना धर्म एवं संस्कृति आधारित पत्रकारिता खालसा कालेज में आयोजित हो रहे बेब जर्नलिज्म एवं स्पोर्ट्स इकोनोमिक एण्ड मार्केंटिंग पाठ्यक्रमों की दिनांक 8 सितंबर 2016 की संयुक्त कक्षाओं के छात्रों को आज के अतिथि वाचक वरिष्ट ज्योतिषाचार्य एवम पत्रकार धर्म एवं संस्कृति पं भानुप्रताप नारायण मिश्र ने संबोधित करते हुए पत्रकारिता में धर्म एवं संस्कृति तथा उसके महत्व से अवगत कराया । श्री मिश्र ने बताया कि पत्रकारिता में धर्म एवं संस्कृति के क्षेत्र में कार्य करने से छात्रों को आध्यात्मिक एवं मानसिक ज्ञान के साथ-साथ विभिन्न धर्मों को निकटता से जानने व समझने का अवसर प्राप्त होता है। साथ ही साथ इस प्रकार की पत्रकारिता में धार्मिक यात्राओं के अलावा घर से भी गहन अध्ययन द्वारा भी कर सकते हैं, चूंकि ज्योतिष के अनुसार प्रत्येक धर्म के त्यौहारों का वार्षिक विवरण पंचांग कलैण्डर के रूप में पूर्व निर्धारित हो जाते हैं जिसमें अधिकतर आकस्मिक जैसा कुछ नहीं होता। अत: आवश्यकता होती है उन अनुष्ठानों व त्यौहारों के विषय में आपके पास अधिक से अधिक अध्ययन सामग्री व ज्ञान होने की जो आपके पाठकों को उनके धर्म व संस्कृति के बारे में सरलता व सुगमता से उपलब्ध हो सके, साथ ही साथ पाठ्य सामग्री अध्ययन की दृष्टि से रूचिपूर्ण व वैज्ञानिक दृष्टिकोण से भी तर्कसंगत हो ताकि मानव जीवन को धर्म व संस्कृति के अंधविश्वासों से दूर रख तर्क पूर्ण ढंग से जोड़ा व रखा जा सके । एक उदाहरण प्रस्तुत करते हुए श्री मिश्र ने बताया कि ऐसा माना जाता है कि महाभारत के युद्ध से पूर्व अधिकांश धार्मिक ग्रंथों महर्षि वेद व्यास जी ने लिखे किन्तु महाभारत नामक महाग्रंथ का लेखन महर्षि व्यासजी ने श्री गणेश जी से कराया क्यों कि गणेश जी तीव्र लेखन में सर्वश्रेष्ठ व निपुण थे, इसी से जोड़ते हुए श्री मिश्रजी हम पत्रकार लेखकों को भी श्री गणेशजी को आदर्श स्वरूप मानते हुए किसी भी सजीव घटना का लेखन कार्य में निपुणता प्राप्त करने का महत्वपूर्ण सुझाव भी दिया। श्री मिश्रजी ने छात्रों को चार धामों गंगोत्री, यमुनोत्री, बद्रीनाथ, केदारनाथ, रामेश्वरम्, सोमनाथ, जगन्नाथपुरी की यात्रा के विशेष महत्व से अवगत कराते हुए बताया कि कैसे इन धार्मिक यात्राओं के माध्यम से हम देश की विभिन्न धर्मों की संस्कृतियों से परिचित हो सकतें हैं तथा हिन्दू धर्म के अतिरिक्त मुस्लिम, सिख, ईसाई, बौद्ध तथा पारसी के बारे में पत्रकारिता के माध्यम से उनमें व्याप्त रीतियों व कुरीतियों को निकटता से जानकर मानव समाज के सामने प्रस्तुत कर सकते हैं तथा हिन्दू धर्म के ध्येय "वसुधैव कुटुम्बकम्" से अन्य धर्मों से जोड़कर सही अर्थों में देश की एकता, अखण्डता व सार्वभौमिकता को अधिक सुदृढ़ बनाने में अपना योगदान दे सकते हैं । योगदान दे सकते हैं ।


Saturday, 17 September 2016

स्वच्छ भारत अभियान बनाम हमारा चुनावी आचरण पिछले दिनों सम्पन्न हुआ दिल्ली विश्ववविद्याल छात्रसंघ (डूसू) चुनाव हमारे मन मष्तिष्क पर कुछ यक्ष प्रश्न छोड़ गया कि क्या शिक्षा के इन मंदिरों में हम देश का बौद्धिक वर्ग तैयार कर रहे हैं क्या वो स्वयंभू विकसित भविष्य उसके अनुसार आचरण भी कर रहा है या नहीं ????? दिल्ली हमारे देश की राजधानी है । जैसे यह विश्व के सर्वश्रेष्ठ नगरों में कहीं कोई स्थान नहीं बना पायी इसीप्रकार दिल्ली विश्वविद्यालय देश के चुनिन्दा सर्वश्रेष्ठ विश्वविद्यालयों में है किन्तु यह भी विश्व के सर्वश्रेष्ट विश्वविद्यालयों के आगे कहीं नहीं ठहराता ।क्यों ? क्यों कि किसी स्थान या संस्थान को सर्वोत्तम वहां की व्यवस्था तथा मानवीय आचरण ही बनाता है । मैं यह प्रश्न इसलिए उठा रहा हूँ क्यों कि पिछले दिनों सम्पन्न हुआ दिल्ली विश्वविद्यालय छात्र संघ चुनाव यही दर्शा गया कि देश का सर्वोत्तम शिक्षित बौद्धिक युवा जिस शिक्षा,संस्कार तथा देश के उत्थान में भूमिका निभाने को लेकर दिल्ली विश्वविद्यालय आता है उसका आचरण व व्यवस्था का प्रवंधन ही शहर व संस्थान का भविष्य तथा विश्व में स्थान तय करता है । मैंने देखा कि विश्वविद्यालय के छात्र जो अधिकाशतः दिल्ली मेट्रो का उपयोग आवागमन के सुलभ साधन के रूप में करते हैं । जब वे मेट्रो में दिखाई देते हैं तव उनका आचरण ऐसा प्रतीत होता है जैसे वे दिल्ली विश्वविद्यालय के छात्र न होकर प्रतिष्ठित आक्सफोर्ड, स्टेनफोर्ड, कैम्ब्रिज इत्यादि विश्वविद्यालयों के छात्र हों और वे मानव संस्कारों के विकसित स्वरूप हों किन्तु मेट्रो स्टेशन से बाहर आते ही उनका चुनावी वातावरण में शामिल होते ही उनके आचरण में स्वछंदता, उन्माद, लापरवाह व असभ्य कार्य संस्कृति प्रदर्शन करते दिखते हैं उनका यह आचरण देश की प्रतिष्ठा और उसको सर्वश्रेष्ट बनाने के स्तर को और दूर ले जाने वाले प्रतीत होते हैं । चुनाव प्रचार के दौरान हर तरह का कूडा करकट, अनियोजित तरीके से खाने पीने का सामान, पोस्टर ,कार्ड्स तथा अन्य चुनावी सामग्री स्टेशन परिसर व उसके बाहर चारों तरफ फैलाया गया उनके इस कृत्य ने देश को विश्व के सामने शर्मसार करने में कोई कसर नहीं छोड़ी और यह सोचने पर मजबूर कर दिया कि यही इस विश्ववविद्यालय के छात्रों का आचरण है । क्या यही छात्र विश्व में भारत की स्वच्छता व सभ्यता के दूत बनेगें ? यह तो भला हो कुछ कर्तव्यनिष्ठ,सभ्य, सुशील तथा संवेदनशील छात्रों का जिन्होंने एक स्वंयसेवक के रूप में बिखरे हुए कचरे को सैकड़ों बैगों में सलीके भरकर निस्तारित कर दिया ऐसे स्वंयसेवक छात्रों के बीच जब कुछ विदेशी अतिथि छात्र भी सम्मिलित हो जायें तव यह स्थिति भारत की प्रतिष्ठा को और भी शर्मसार करने वाली हो जाती है किन्तु ऐसे छात्र स्वंयसेवकों पर भारत को गर्व है उन्हें हमारा कोटि-कोटि अभिनन्दन । मैं इस विषय को इसलिए उठा रहा हूँ कि जब देश का प्रधानमंत्री के साथ-साथ वहां का मुख्य मंत्री भी हमें स्वच्छता अभियान के माध्यम से हमें जागरुकता के साथ-साथ कर्तव्यों का बोध कराते हैं ।इस अभियान को एक आंदोलन में परिवर्तित करते हैं तब फिर हम सभी का यह दायित्व बनता है कि जिस प्रकार हम अपने घरों में स्वच्छ वातावरण पंसंद करते हैं उसी प्रकार हम देश में भी स्वच्छता लाने मे अपने कर्त्तव्य का निर्वहन करें तथा यह निवेदन व आशा करता हूँ कि छात्र संघ चाहे सत्ताधारी दलों के हों या विपक्षी दलों के कठोर से कठोर दिशानिर्देश जारी कर उनका अनुपालन सुनिश्चित करें ताकि दिल्ली विश्वविद्धयालय भी उन प्रतिष्ठित विश्वविद्यालयों में सम्मिलित हो सके और जिस आचरण का हम दिल्ली मेट्रो में सहयोग करते हैं वहीं सम्पूर्ण राष्ट्र में करें जिससे कि देश को और अधिक शर्मसार स्वच्छ भारत अभियान बनाम हमारा चुनावी आचरण पिछले दिनों सम्पन्न हुआ दिल्ली विश्ववविद्याल छात्रसंघ (डूसू) चुनाव हमारे मन मष्तिष्क पर कुछ यक्ष प्रश्न छोड़ गया कि क्या शिक्षा के इन मंदिरों में हम देश का बौद्धिक वर्ग तैयार कर रहे हैं क्या वो स्वयंभू विकसित भविष्य उसके अनुसार आचरण भी कर रहा है या नहीं ????? दिल्ली हमारे देश की राजधानी है । जैसे यह विश्व के सर्वश्रेष्ठ नगरों में कहीं कोई स्थान नहीं बना पायी इसीप्रकार दिल्ली विश्वविद्यालय देश के चुनिन्दा सर्वश्रेष्ठ विश्वविद्यालयों में है किन्तु यह भी विश्व के सर्वश्रेष्ट विश्वविद्यालयों के आगे कहीं नहीं ठहराता ।क्यों ? क्यों कि किसी स्थान या संस्थान को सर्वोत्तम वहां की व्यवस्था तथा मानवीय आचरण ही बनाता है । मैं यह प्रश्न इसलिए उठा रहा हूँ क्यों कि पिछले दिनों सम्पन्न हुआ दिल्ली विश्वविद्यालय छात्र संघ चुनाव यही दर्शा गया कि देश का सर्वोत्तम शिक्षित बौद्धिक युवा जिस शिक्षा,संस्कार तथा देश के उत्थान में भूमिका निभाने को लेकर दिल्ली विश्वविद्यालय आता है उसका आचरण व व्यवस्था का प्रवंधन ही शहर व संस्थान का भविष्य तथा विश्व में स्थान तय करता है । मैंने देखा कि विश्वविद्यालय के छात्र जो अधिकाशतः दिल्ली मेट्रो का उपयोग आवागमन के सुलभ साधन के रूप में करते हैं । जब वे मेट्रो में दिखाई देते हैं तव उनका आचरण ऐसा प्रतीत होता है जैसे वे दिल्ली विश्वविद्यालय के छात्र न होकर प्रतिष्ठित आक्सफोर्ड, स्टेनफोर्ड, कैम्ब्रिज इत्यादि विश्वविद्यालयों के छात्र हों और वे मानव संस्कारों के विकसित स्वरूप हों किन्तु मेट्रो स्टेशन से बाहर आते ही उनका चुनावी वातावरण में शामिल होते ही उनके आचरण में स्वछंदता, उन्माद, लापरवाह व असभ्य कार्य संस्कृति प्रदर्शन करते दिखते हैं उनका यह आचरण देश की प्रतिष्ठा और उसको सर्वश्रेष्ट बनाने के स्तर को और दूर ले जाने वाले प्रतीत होते हैं । चुनाव प्रचार के दौरान हर तरह का कूडा करकट, अनियोजित तरीके से खाने पीने का सामान, पोस्टर ,कार्ड्स तथा अन्य चुनावी सामग्री स्टेशन परिसर व उसके बाहर चारों तरफ फैलाया गया उनके इस कृत्य ने देश को विश्व के सामने शर्मसार करने में कोई कसर नहीं छोड़ी और यह सोचने पर मजबूर कर दिया कि यही इस विश्ववविद्यालय के छात्रों का आचरण है । क्या यही छात्र विश्व में भारत की स्वच्छता व सभ्यता के दूत बनेगें ? यह तो भला हो कुछ कर्तव्यनिष्ठ,सभ्य, सुशील तथा संवेदनशील छात्रों का जिन्होंने एक स्वंयसेवक के रूप में बिखरे हुए कचरे को सैकड़ों बैगों में सलीके भरकर निस्तारित कर दिया ऐसे स्वंयसेवक छात्रों के बीच जब कुछ विदेशी अतिथि छात्र भी सम्मिलित हो जायें तव यह स्थिति भारत की प्रतिष्ठा को और भी शर्मसार करने वाली हो जाती है किन्तु ऐसे छात्र स्वंयसेवकों पर भारत को गर्व है उन्हें हमारा कोटि-कोटि अभिनन्दन । मैं इस विषय को इसलिए उठा रहा हूँ कि जब देश का प्रधानमंत्री के साथ-साथ वहां का मुख्य मंत्री भी हमें स्वच्छता अभियान के माध्यम से हमें जागरुकता के साथ-साथ कर्तव्यों का बोध कराते हैं ।इस अभियान को एक आंदोलन में परिवर्तित करते हैं तब फिर हम सभी का यह दायित्व बनता है कि जिस प्रकार हम अपने घरों में स्वच्छ वातावरण पंसंद करते हैं उसी प्रकार हम देश में भी स्वच्छता लाने मे अपने कर्त्तव्य का निर्वहन करें तथा यह निवेदन व आशा करता हूँ कि छात्र संघ चाहे सत्ताधारी दलों के हों या विपक्षी दलों के कठोर से कठोर दिशानिर्देश जारी कर उनका अनुपालन सुनिश्चित करें ताकि दिल्ली विश्वविद्धयालय भी उन प्रतिष्ठित विश्वविद्यालयों में सम्मिलित हो सके और जिस आचरण का हम दिल्ली मेट्रो में सहयोग करते हैं वहीं सम्पूर्ण राष्ट्र में करें जिससे कि देश को और अधिक शर्मसार होने से बचाया जा सके । होने से बचाया जा सके ।


Thursday, 15 September 2016

चिकनगुनिया : - एक चुनोती

14 सितम्बर 2016 को नवभारत टाइम्स ने चिकनगुनिया जैसी  महामारी पर खास रिपोर्ट पेश की।अपनी इस रिपोर्ट में  उन्होंने बताया की अबतक 10  से ज़्यादा लोगों की मौत चीकन गुनिया से हो चुकी है।और ऐसे मे  लोगों तक स्वास्थ्य संबंधी  सुविधा पहुँचाने  की बजाय राजनीतिकसियासत तेज़ हो रही है।आम आदमी पार्टी पर उठने वाले सवालों पर अरविन्द केजरीवाल ने कहा कि " सी.एम् और मिनिस्टर के पास अब एक पेन तक खरीदने की पावर नही बची है , पी.एम् और एल.जी के पास दिल्ली से जुड़े  सारे अधिकार  और शक्तियां है।"  वही दूसरी और सरकार  के मंत्रियौ ने आरोप लगाया कि  "अब तक  एम् सी डी  ने किसी भी इलाके में  दवाई नहीं डाली  है और बिमारियों  की रोकथाम की ज़िम्मेदारी  निभाने में  एम् सी डी  पूरी तरह से नाकाम है। वही हेल्थ मिनिस्टर सत्येंदर  जैन  का कहना था कि " चिकनगुनिया  से  पैनिक न फैलायें क्योंकि इस बिमारी  से मौत नही होती , रोकथाम की पूरी ज़िम्मेदारी एम् सी डी  की है। वह महामारी फ़ैलाना चाहती है इसलिये सफाई नही कर रही।  सरकारी  हस्पताल मरीजों से भरे पड़े है।  परंतु न उनके लिये बेड  है और न ही चिकित्सा की व्यवस्था।  कर्मचारियों  की भी अत्याधिक कमी हो रही है। 
ऐसे में  केन्द्र और दिल्ली सरकार को आपस में  उलझने की बजाय इस कार्य को देखना  द चाहिय कि  इस महामारी को रोका  कैसे जाय।  सारी  एजैंसियों को मिलकर काम करना चाहिय।    इसके लिये सामाजिक संगठन और युवा संगठनो  को भी सामने आना चाहिय।ऐसी  पहल इस . जी  . टी  .भी खालसा कॉलेज की एन  .एस . एस टीम करने जा रही है।  कॉलेज के छात्र आने वाले दिनों में दिल्ली के लोक नायक हस्पताल मे  मरीजों की सहायता  के लिये नियुक्त किया जायेंगे।  वस्तुत ऐसी पहल बाकी संगठनों को भी करनी चाहिय तभी इस बिमारी   को रोका  जा सकता है। अतः  यह सही समय है  ज़िम्मेदारी लेने और निभाने का। 

Monday, 12 September 2016

एक अनदेखी समस्या

आज जब मैं एस. जी. टी .बी  खालसा कॉलेज से वेब जर्नलिज्म की कक्षा लेकेर मेट्रो द्वारा  अपने घर  जा रही थी तब  मैने कश्मीरी  गेट पर मेट्रो  में बहुत ज़्यादा भीड़ का सामना किया।  स्त्री  और पुरुष दोनों ही सामान मात्रा में  नज़र आ रहे थे।  ऐसे मे महिलाओं का कोच पूरी तरह से भर गया था और मजबूरी में  मुझे समान वर्ग वाले कोच मे  आना पड़ा।  तभी मैंने देखा  कि  एक महिला और पुरुष आपस मैं लड़ पड़े , इसीलिए क्योंकि महिला को ऐसा अनुभव हुआ कि  उसके साथ बैठा व्यक्ति उसे छेड़  रहा है। आपसी बहस मे  मेरे कानों मे  एक वाक्य  पड़ा , उस पुरुष का कहना था कि " इतनी दिक्कत है तो महिलाओं के कोच मे  जाओ। " अब भला मेट्रो के आठ कोच मे  से सिर्फ एक कोच महिलाओं के लिये आरक्षित है तो कितनी महिलाएं उसमे आ पाएंगी ? और आज के दौर मे  जहाँ पुरुषों के समान ही  स्रियाँ भी काम करने के लिये जाती है और सरकारी परिवाहनों  का इस्तेमाल करती है , सिर्फ एक महिला कोच आरक्षित करने से  ऐसी समस्या का हल नही  सकता। स्त्री और पुरुष आज के युग मे  दोनों ही सामान है और दोनों को ही समान हक़ मिलना चाहिये  । मेरी राय मे  मेट्रो का जो एक कोच महिलाओं के लिये आरक्षित है उससे बढ़ा  कर कम से काम ३ कर देना चाहिय तभी कुछ हद्द तक इस समस्या का निवारण हो पाएगा और महिलाओं को ऐसे अभद्र टिप्पणियों  का सामना नही करना पड़ेगा ।  एक अनदेखी  समस्या 

Thursday, 8 September 2016

Sanchar

एस.जी. टी. बी.खालसा कॉलेज में आदरणीय डॉ स्मिता मिश्रा के सानिध्य में आरम्भ हुए पाठ्यक्रमों वेब पत्र्कारिता एवम स्पोर्ट इकनोमिक एंड मार्केटिंग के छात्रों की संयुक्त कक्षाओं को संबोदित करते हुए कल के गेस्ट लेक्चरर सनी गोंडजी ने संचार पर अपनी विशेसज्ञता तथा इन दोनों पाठ्यक्रमों के अन्तर्गत आने वाले क्षेत्रों में संचार तथा संचार के  माध्यमोँ की उपयोगिता के बारे में अवगत कराया

        सनी गोंडजी ने छात्रों को संचार शब्द के बारे में बताया कि "दो व्यक्तियों या समूहों के मध्य कुछ सार्थक चिन्हों,संकेतों,प्रतीकों,तथा कौशल के द्वारा सूचना ,जानकारी,ज्ञान,या मनोभावों का आदान-प्रदान संचार है। 
                                   अर्थात 
         संचारक (sender) और प्रापक (receiver)के मध्य वह उभयनिष्ठता स्थापित करता है। 

 प्राचीन काल  से आज के आधुनिक युग तक संचार के द्वारा ही मानव सभ्यता में सतत रूप से विशाल परिवर्तन हुआ है।
         संचार की उपयोगिता व उसके तकनीकी पहलुओं पर व्यापक रूप से प्रकाश डालते हुए सनीजी ने बताया कि संचार ही मानव संबंधों के विकास की धुरी है जो आदि मानव युग से आज के युग तक बिभिन्न माध्यमों के रूप में अनवरत प्रगतिशील है। जहाँ आज से कुछ दशक पूर्व संचार के सीमित साधन पत्र व्यवहार,तार,शार्ट हैण्ड लिपि,रेडियो,टेलीफोन तथा दूरदर्शन टेलीविज़न हुआ करते थे वहीँ आज के डिजिटल समय में कई आधुनिक सुबिधाओं जैसे-इन्टरनेट,मोबाइल फोन,स्मार्ट फ़ोन,सैटेलाइट चैनल,ई-पेपर,तथा सोशल मीडिया के विभिन्न माध्यमों से पत्रकारिता व मार्केटिंग के अलावा समूची मानव सभ्यता में गुणात्मक रूप से व्यापक परिवर्तन कर दिया है। जिसका परिणाम मानव जीवन में समय की कमी के रूप में आ रहा है। आज संचार माध्यमों ने समाज, राज्य,तथा राष्ट्रों की सीमाओं से परे जाकर समूचे विश्व को अप्रत्यक्ष तौर पर एकीकृत कर दिया है।



संचार का पाठ

एक भूत  अपनी प्रवृति अनुसार लोगों को संकट में लाने के लिए एक आसान सवाल पूछता।
भूत  : ठंड कब होती है?
पहला आदमी  : दिसम्बर - जनवरी में ।
भूत ने उसे मार दिया।
कुछ दिन बाद दूसरा आदमी मिला । भूत ने उससे भी वही प्रश्न दोहराया। उसने भी वही जवाब दिया कि ठंड दिसम्बर - जनवरी में होती है । भूत ने उसे भी मार दिया ।कुछ महिनों तक यही  प्रश्न, यही उत्तर और यही सज़ा किंतु हर बार नए व्यक्ति पर दोहराये गए ।
पर कहानी का अंत तो होता ही है।भूत को भी आखिर वो इंसान मिला जिसने सही जवाब (जो भूत को समझ में आया ) दिया।उसने कहा कि ठंड जब पड़ती है जब ठंडी हवा चलती है ।और भूत ने उसे जाने दिया।
अब विचार किया जाए कि दिसम्बर -जनवरी वाले जवाब में क्या गलती थी ? उत्तर तो वो भी सही था।
किंतु...... भूत..  को वो उत्तर सही नहीं  लगता ।क्योंकि उसे  वो समझ में ही नहीं आता । ऐसा इसलिए क्योंकि उसकी मौत मई के महिने में ठंड से हुई थी ।इस कारण ही वो मानता था कि ठंड सिर्फ दिसम्बर-जनवरी में ही नहीं होती बल्कि मई में भी होती है ।इसी का उत्तर वो जानना चाहता था ।जो उसे उस आदमी के उत्तर में मिला ।
इस कहानी से पता चलता है कि एक संचारक (sender) को  प्रापक (reciever) के ,यहाँ पर भूत ,के विश्वास और उसके मनोविज्ञान के अनुकूल ही अपना  संदेश  देना चाहिए।तभी हमारा संचार पूरी तरह सफल होगा।
यही और ऐसी  ही कुछ बातें अपनी संचार की कक्षा में मैंने समझी।यह कक्षा हमारे अध्यापक Mr. Sunny ने दी ।उन्होंने समझाया कि क्यों संचार करना हमारी ज़रूरत है और जब हम हमारी बात-चीत बंद होती है तो क्या परिणाम हो सकता है ।उन्होंने बताया कि संचार से ही मेल जोल बढ़ता है ।अपनी बात दूसरों तक पहुँचाने के कारण ही आज मनुष्य एक समाज में खुद को बुन पाया है ।उन्होंने प्रधानमंत्री मोदी जी के उदाहरण से हमें बताया कि कैसे संचार को अधिक सफल बनाया जा सकता है ।उन्होंने समझाया कि मोदी जी कैसे अपने संदेश की भाषा को प्रापक  (reciever ) के अनुकूल बनाते हैं ।जब वो अमेरिका में भाषण देते हैं तो आधुनिकरण की बातें करते हैं ।वहीं जब भोले-भाले ग्रामीण जन मानस को सम्बोधित करते हैँ  तो कैसे उन की बोली में बोलकर उनके दिलों तक पहुँचते हैं । अपने प्रापक को समझना भी ज़रूरी है ।एक अच्छा संचारक वही है जो अपना संदेश सामने वाले को समझा सके ।किंतु कई बार संचार में अवरोध होते हैं - भौतिक कारण (शोर), भाषा संबंधी, मनोवैज्ञानिक( विश्वास) आदि।

सफल संचार के लिए न सिर्फ शाब्दिक अपितु अशाब्दिक संचार का भी महत्त्व है ।कई विद्वान तो सफल संचार का श्रेय 50 % तक अशाब्दिक संचार को ही देते हैं ।संचार प्रक्रिया में शामिल लोगों की संख्या के आधार पर  संचार मुख्यतः चार प्रकार का है - अंतः वैयक्तिक संचार (स्वयं से संचार ),अंतर वैयक्तिक संचार( दो लोगों के बीच संचार ),समूह संचार (समूह में या समूह से संचार ) और जन संचार (जनसमूह से संचार)।
अब हम जन समूह संचार (mass communications) को पढ़ेंगे । यह आज के प्रजातंत्र में अत्यंत महत्वपूर्ण है ।इससे हम अपनी बात बड़े जनसमूह तक पहुँचा पाते हैं।किंतु बड़े समूह के साथ सावधानियाँ भी अधिक होती हैं ।जैसे सही माध्यम ,भाषा अपने उद्देश्य , अपने प्रापक के हिसाब से चुनना आदि ।
तो मैं कह सकती हूँ कि मैंने सीधी -सरल बातों से जटिल चीजों को सीखा ।कक्षा को जिंदगी में जोड़ना सीखा ।