Thursday, 12 October 2017

FIFA U-17 IN INDIA

First time india is organising FIFA U -17 in india .its is big event and gd opportunity for young footballer in india.

Friday, 6 October 2017

CLASS ON BROADCASTING

In my last class on 27/9/17 Mr. Arjun Chaudhary  throwed light on broadcasting this time explaining us more deeply technical side of broadcasting  in layman jargon .Also he disscussed with us business stories of  media moguls like Ted Turner in order to validiate his points regarding broadcasting and its process .  He also talked about content generation and generating the interest of audiences in audio visual media through comparison between PUBLIC BROADCASTERS AND PRIVATE BROADCASTERS IN INDIA. At last he submitted us homework  to collect information on casestudies of Ted Turner and Rupert Murdoch which will serve as background in next class on content generation taken by him.

My News Reporting class

Last tuesday on  25th september 2017 Mr. Roshan Jha from Navbharat Times explained to us how to report a news promptly after the live experience . So in order to show us he sent us in class only ,past Phone recording of him and Yogeswar Dutt regarding the pro wrestling tournament that was conducted in month of september .We all had to listen to recording and report the news in hindi or in english  during class only  for submission and further evaluation. After the exercise my observations were:


  • NEWS REPORTING SHOULD BE UNBIASED WITH OUR PERSPECTIVE.
  • IT SHOULD EITHER INFORM ,EDUCATE ,ENTERTAIN OR PROVOKE HIM OR HER.
  •       NEWS SHOULD ALSO SEEK PUBLIC INTERST AT RIGHT TIME AND RIGHT PLACE.

Monday, 25 September 2017

New sports vistas and sports law

Mr. Shivam Singh
(Sports law and Dispute resolution counsel)
Alternate dispute resolution and sports

The disputes which arise in the field of sports are mainly classified into three categories: 1) a. Anti-Doping         
                         b. Tax Issues
                     2) Contract Disputes – Broadcasting, telecasting etc.
                     3) Between stakeholders. For example, Dispute between Zahir Khan  
                          and his managing committee.
Ø Difference between American football (NFL) and rugby

          American Football                                                                Rugby
1.     Forward pass allowed only.                                         1. Backward pass only.
2.     Players wear protective gear.                                      2. No protective gear.
NFL, being contact intensive sport, leaves players with significant brain damage and several concussions.
Settlement between NFL and player’s association involved over 600 billion US dollars.
*interim relief
# Mediation- Going to neutral person by consent judicial process and that neutral                   
                         person resolves the case.
# Arbitration- In Arbitration, the word of the arbitrary is final and in mediation, the person is just helping two parties arrive at a decision and their word isn’t final.
There are two types of arbitration, 1. Institutional Arbitration
                                                               2. Ad hoc Arbitration

* On 23rd October 2015, the amendment in Indian Arbitration and Reconciliation Act.
-> Disadvantage of arbitration is Unpredictability.
# Case Dyuti Chand (Sprinter) had chemical, hormonal imbalance. Her body’s endocrine system produced higher hormones, which was higher as compared to fellow athletes.
She suffered with Hyperandrogenism. The judgment suspended the effects of hyperandrogenism, saying to produce scientific proofs that it provides competitive advantage to the athlete.
# Oscar Pistorius (Blade Runner), he not was able to run faster than his fellow Para athletes but also ran faster than fully abled athletes and compete with them. He eventually started competing against fully abled athletes.                                                            The lawyers said that the carbon fiber blade gave him more spring in each step.
Oscar, eventually won the case solely on one proof, he said that if he has advantage, he has it on the straight lane. However he has more disadvantage on the curved lane, leading to the net negative. And if he still is able to meet the qualification standards then there shouldn’t be any problem.




Mr. Vikrant Narayan Vasudev
(Advocate on-record, Supreme Court of India)
Intellectual Property Rights in Sports

-> Characters of Intellectual property rights :
1. Ubiquitous
2. Incentives and rewards
3. Renewable resources
4. Capitalism
5. Monopoly
6. Territorial
7. Statutory

Intellectual Property Rights are divided into 3 categories:
1.  a) Industrial property
     b) Patent
     c) Trademark
     d) Designs
     e) Integrated Cicuits
     f ) Trade secrets
2. Copyrights
3. Other I.P. > a) Traditional Knowledge
                          b) Plant Variety
# Ambush Marketing


Mr. Robbin Nirwani
(Sports management at Bhaichung Bhutia Football Academies)
Emergence of professional sports academies: legal aspects

Challenges often faced by sports academies: 1. Infrastructure
                                                                                 2. Technical know-how
                                                                                                       3. Age cheating
                                                                                 4. Unfavorable Govt. policies
                                                                                 5. Reach limited to Cities
                                                                                 6. Perception of sports as                                                                                  
                                                                                      investment tool
-> Less no. of residential clubs in India
-> Academies are increasingly marketing their services and enhancing their brand       value through local connect
Ties – ups of international sports organizations with Indian sports organizations 

# Biggest reason which academies faces, everlasting land shortage crises.

Website designing

Mr akash teach us  how to operate the website .wt are the different options are there like how to use the images and text.

Sunday, 24 September 2017

DOORDARSHAN, MERI BAAT : Indian Etiquette, Traditions and Culture

Doordarshan Bharati is working as a cultural heritage of India & a dedicated channel to the Art and Culture. It gave us the golden opportunity to be the part of the programme "MERI BAAT" for knowing more and sharing our views on 'INDIAN ETIQUETTE,TRADITION and CULTURE'. The four Experts, Dr. Sheetal Kapoor (Associate professor in KNC, Consumer Activist) , Vishwanath Prasad Tiwari (Indian poet and writer), Dr. Ved Pratap Vaidik (journalist,political analyst and freelance communist of India) And Dr.Brijesh tripathi ,who were there for amplifying our knowledge.

We all have grown up seeing our Tradition and cultures beside us and we are the shapers of culture  & the workers for change. what we learnt from our specialist is that,  India is regarded by many historian as the "oldest Living Civilization of the Earth" Indian tradition date back to 8000 BCE , & have a continuous history since the time of the Vedas , believed variously to be 3000 to 5500 years old. India has emerged out as a beautiful nation of traditions after fighting the malpractices like PURDAH SYSTEM, CHILD MARRIAGE, SATI TRADITION, however they were not the conventions but the abuses which were hollowing our culture from inside.

 It would be very false to say that the Modernization is overshadowing our culture. Definitely Not. Due to Modernization itself, we have been becoming more open and tolerant to other cultures & Traditions since many eras and adopting the good thing while ignoring the bad & yet we kept our heritage intact.

As India itself a nation of diverse cultures , but the "togetherness' is the symbol of our nation. Nothing is permanent in this world , and the diverse cultures will keep on introducing, so learn what is new, respect different cultures but your own culture should be paramount. 

Saturday, 23 September 2017

Broadcasting

21/09/2017 


Broadcasting - 


Signals are information which are distributed by satellites in the form of either digital waves (which are lighter i.e have a small file size)  or in the form of analog waves (which are heavier i.e have a bigger file .  As a broadcaster one has to add value to it's output which can be through better graphics, analyzing, commentary so that the viewership is higher which eventually leads to higher advertisement rates.

Saturday, 16 September 2017

हिंदी में ई-सामग्री : वर्तमान स्थिति/डॉ. धनजी प्रसाद

Monday, July 10, 2017

हिंदी में ई-सामग्री : वर्तमान स्थिति                              (साभार)


आभ्यंतर : लोक, भाषा, विश्व साहित्य और समकालीन वैचारिकि का मंच; वर्ष-01, अंक : 02, जनवरी-2017
ISSN: 2348-7771, संपादक : कुमार विश्वमंगल पाण्डेय, जहाँगीरपुरी दिल्ली


डॉ. धनजी प्रसाद सहायक प्रोफेसर, (भाषा-प्रौद्योगिकी)
महात्मा गांधी अंतरराष्ट्रीय हिंदी विश्वविद्यालय, वर्धा (महाराष्ट्र)
dhpr.langtech@gmail.com
1. परिचय
आज के समय में इंटरनेट हमारे तकनीकी जीवन का आधार है। पाठ, चित्र के अलावा ऑडियो-विजुअल सामग्री में असीमित मात्रा में आज इंटरनेट पर उपलब्ध है। किसी भी प्रकार की जानकारी या ज्ञान की आवश्यकता होने पर हम तुरंत इंटरनेट खोलते हैं और उसे प्राप्त कर लेते हैं। इंटरनेट हमारे जीवन में ज्ञान-विज्ञान, प्रचार-प्रसार और सूचनाओं के त्वरित विस्तारण का माध्यम बन चुका है। इसलिए आज किसी भी देश या समाज की तकनीकी प्रगति बहुत हद तक इस बात पर निर्भर करती है कि वह इंटरनेट से कितना जुड़ा हुआ है या इंटरनेट का वहाँ कितना विस्तार है। यह बात भाषा के संदर्भ में भी उतनी ही सत्य है। आज किसी भी भाषा के प्रयोग और विस्तार को बढ़ाने के लिए उस भाषा में इंटरनेट पर सामग्री उपलब्ध होना अतिआवश्यक है।
हिंदी भारत की राजभाषा है। पिछले कुछ दशकों में हिंदी को तकनीकी के क्षेत्र में अग्रणी भाषा के रूप में स्थापित करने के लिए अनेक प्रकार के संस्थागत और व्यक्तिगत प्रयास किए गए हैं। भारत में कंप्यूटर क्रांति के बाद इंटरनेट क्रांति आज के समय की माँग है। भारत के वर्तमान प्रधानमंत्री माननीय मोदी जी द्वारा भी डिजिटल इंडिया के रूप में तकनीकी साधनों को बढ़ावा दिया जा रहा है, जिनमें इंटरनेट सर्वोपरि है। इंटरनेट का वास्तविक अर्थों में भारत में विस्तार तभी हो सकेगा, जब इंटरनेट पर हिंदी और अन्य भारतीय भाषाओं में अधिकाधिक सामग्री उपलब्ध हो सकेगी। इसलिए आज यह जानना नितांत आवश्यक है कि हिंदी और अन्य भारतीय भाषाओं में कितनी और किस प्रकार की सामग्री इंटरनेट पर उपलब्ध है। इसी का ध्यान रखते हुए व्यक्तिगत स्तर पर हिंदी में ऑनलाइन उपलब्ध सामग्री का एक सर्वेक्षण करके प्रमुख वेबसाइटों और उन पर उपलब्ध सामग्री के बारे में प्रस्तुत आलेख में चर्चा की जा रही है। इसे निम्नलिखित शीर्षकों में प्रस्तुत किया जा रहा है-
भाषा और साहित्य, हिंदी विकिपेडिया, स्वास्थ्य और चिकित्सा, मीडिया (समाचार चैनल और समाचार पत्र), मनोरंजन (सिनेमा और गीत)
2. भाषा और साहित्य
इंटरनेट ज्ञान को संग्रहित करने एवं प्राप्त करने का आज सबसे बड़ा भंडार है। यहाँ पर भी हिंदी ने प्रभावशाली दस्तकत दी है। आज हिंदी के लाखों  ब्लॉग एवं वेबसाइटें हैं। ब्लॉग एवं वेबसाइटों के अतिरिक्त धीरे-धीरे हिंदी के बहुत सारे भाषिक टूल भी इंटरनेट पर ऑनलाइन उपलब्ध हो गए है; जैसे: हिंदी के ई-कोश, हिंदी शब्द-तंत्र (Hindi WordNet) एवं हिंदी साहित्य तथा ज्ञान विज्ञान से संबंधित ई-लाइब्रेरी आदि। इन सभी की उपलब्धता आधुनिक युग में हिंदी को नई ऊँचाई प्रदान कर रही है। इंटरनेट पर केवल हिंदी ही नहीं बल्कि अनेक भारतीय भाषाओं के लिए ऑनलाइन शब्दकोश उपलब्ध कराने वाली वेबसाइटें हैं। इस प्रकार भिन्न-भिन्न प्रकार की सामग्री और साहित्य उपलब्ध कराने वाली वेबसाइटें भी हैं। उदाहरण के लिए कुछ वेबसाइटों को देख सकते हैं-
2.1 http://www.hindisamay.com/ : यह महात्मा गांधी अंतरराष्ट्रीय हिंदी विश्वविद्यालय, वर्धा का एक बृहद प्रयास है। जिसमें हिंदी के प्रमुख साहित्यकारों की रचनाओं की सामग्री लगभग पाँच लाख पृष्ठों में उपलब्ध है और आगे भी कार्य निरंतर जारी है। हिंदी के विविध रचनाकारों को इसमें वर्णानुक्रम में उनके नाम के अनुसार खोजा जा सकता है, अथवा हिंदी साहित्य के विविध क्षेत्रों के लिए दिए गए टैबों को क्लिक करके भी आवश्यक सामग्री प्राप्त की जा सकती है-

आज देश-विदेश में लाखों लोगों द्वारा हिंदी सीखने और सीखाने के लिए इसका प्रयोग किया जा रहा है।
2.2 http://www.shabdkosh.com/ : इस वेबसाइट पर अंग्रेजी-हिंदी या हिंदी-अंग्रेजी में शब्दार्थ देखे जा सकते हैं। साथ इसमें हिंदी के अलावा बंगाली, गुजराती, कन्नड़, मलयालम, मराठी,पंजाबी, तमिल और तेलुगु भाषाओं के विकल्प भी उपलब्द हैं। इसमें एक-एक शब्द के 40 तक अर्थ देखे जा सकते हैं। उदाहरण के लिए ‘science’ शब्द का अर्थ देखने पर 14 अर्थ प्राप्त होते हैं- अध्ययन,उस्तादी, कौशलज्ञानतकनीकप्रक्रिया, विज्ञानविद्या, विषय शास्त्र, हुनर, इल्मविद्या, विभाग। इसी प्रकार प्रत्येक शब्द के उच्चारण को सुना भी जा सकता है। इसी प्रकार पर्यायवाची और विलोम आदि की भी व्यवस्था है।
2.3 http://bharatdiscovery.org/india/मुखपृष्ठ : भारत की साहित्यिक और सांस्कृतिक थाती को सहेजता हुआ यह एक उल्लेखनीय प्रयास है। इसमें भारत के इतिहास, पर्यटन, साहित्य,धर्म, संस्कृति, दर्शन आदि से जुड़ी विशाल सामग्री एक ही स्थान पर प्राप्त हो जाती है- 



2.4 http://kavitakosh.org/kk/कविता_कोश_मुखपृष्ठ : हिंदी और उसकी बोलियों के लोक साहित्य को सहेजने की दृष्टि से यह भी एक बड़ा संकलन है। इसमें हिंदी की अनेक सहभाषाओं और बोलियों के लोक साहित्य को देखा और पढ़ा जा सकता है-


2.5 http://www.hindikunj.com/ : यह भी हिंदी साहित्य और व्याकरण संबंधी ज्ञान के लिए एक उत्तम स्रोत है। वैसे इस वेबसाइट पर व्याकरण संबंधी ज्ञान बहुत कम है, किंतु साहित्यिक सामग्री पर्याप्त मात्रा में है-

इसी प्रकार इंटरनेट पर करोड़ों वेबसाइटें हैं जहाँ प्रत्येक विषय से संबंधित ज्ञान विशाल मात्रा में उपलब्ध है। यद्यपि यहाँ भी अंग्रेजी का वर्चस्व है किंतु इसके बावजूद विभिन्न विषयों से जुड़े ज्ञान का पर्याप्त भंडार इंटरनेट पर हिंदी में भी देखा जा सकता है जो कंप्यूटर, तकनीकी और सूचना प्रौद्योगिकी के सभी पक्षों से संबंधित हैं। इन्हें गूगल सर्च या वेबसाइट के नाम से खोजा जा सकता है।
3. हिंदी विकिपीडिया
हिंदी विकिपीडियाविकिपीडिया का हिंदी भाषा का संस्करण हैजिसका स्वमित्व विकिमीडिया संस्थान के पास है। हिंदी संस्करण जुलाई 2003 में आरम्भ किया गया थाऔर 31 अगस्त 2011 तक इसमें 1,0,013 से अधिक वैध लेख और लगभग 51,220 से अधिक पंजीकृत सदस्य हैं। इसी दिन यह एक लाख लेखों का आँकड़ा पार करने वाला प्रथम भारतीय भाषा विकिपीडिया बना।– 

4. स्वास्थ्य और चिकित्सा
चिकित्सा (medical) एक ऐसा क्षेत्र है जिसका कामकाज सामान्यतः अंग्रेजी में ही होता है। यह सभी प्रकार के लोगों की मूल आवश्यकता है। इसलिए इससे संबंधित सामग्री का आम आदमी की भाषा में होना नितांत आवश्यक है। वर्तमान में हिंदी में अनेक वेबसाइटें हैं, जिन पर भिन्न-भिन्न प्रकार के रोगों और उनकी चिकित्सा संबंधी जानकारियाँ उपलब्ध हैं। उदाहरण के लिए कुछ को देखा जा सकता है-
4.1 http://jkhealthworld.com/hindi/ : इस वेबसाइट पर आयुर्वेद, होम्योपैथ, प्राकृतिक चिकित्सा और हेल्थ से जुड़े अनेक क्षेत्रों की जानकारियाँ सरल भाषा में उपलब्ध हैं। अतः यह वेबसाइट विभिन्न प्रकार के रोगों और उनके इलाजों के बारे में हिंदी माध्यम से उपलब्ध कराते हुए चिकित्सा के क्षेत्र में हिंदी को संपन्न बनाने का कार्य कर रही है- 

4.2 http://www.onlymyhealth.com/hindi.html : हमारी वर्तमान जीवनशैली के कारण होने वाली प्रमुख बिमारियों और विभिन्न गंभीर रोगों, जैसे- अर्थराइटिस, कैंसर, डायबिटीज, बी.पी.,थायराइड, माइग्रेन आदि के बारे में और उनके इलाज में जानने के लिए यह एक उपयुक्त वेबसाइट है। साथ ही इस पर डाइट और फिटनेस, हेयर और ब्यूटी, गर्भावस्था और परवरिश संबंधी महत्वपूर्ण बातें भी दी गई हैं। इसी प्रकार कुछ अन्य वेबसाइटों को भी देखा जा सकता है-




इसी प्रकार विभिन्न पत्र-पत्रिकाओं के ऑनलाइन वर्जन पर हेल्थ से संबंधित एक लिंक रहता है, जहाँ स्वास्थ्य और चिकित्सा संबंधी विभिन्न जानकारियाँ प्राप्त की जा सकती हैं।
5. मीडिया (समाचार चैनल और समाचार पत्र)
मीडिया के क्षेत्र में हिंदी का स्थान बहुत ही उन्नत है। हिंदी माध्यम से अनेक समाचार चैनल और समाचार पत्र संपूर्ण भारत में चल रहे हैं। आज ये सभी हिंदी समाचार चैनल और समाचार पत्र ऑनलाइन भी उपलब्ध हैं। उदाहरण के लिए कुछ समाचार चैनलों के लिंक इस प्रकार हैं-


·        khabar.ndtv.com/
·        aajtak.intoday.in/
·        abpnews.abplive.in/india-news/
·        khabar.ibnlive.com/
·        zeenews.india.com/hindi/india
·        www.newsnation.in/livevideo


इसी प्रकार समाचार पत्रों के भी लिंक देखे जा सकते हैं-


·        www.jagran.com/
·        www.bhaskar.com/
·        navbharattimes.indiatimes.com/
·        www.livehindustan.com/
·        www.amarujala.com/
·        www.bbc.com/hindi


ऑनलाइन प्लेटफॉर्म उपलब्ध होने के कारण अब समाचार पत्रों के पास यह बाध्यता नहीं रही कि समाचारों को अगले दिन ही दिखाएँ। जैसे ही कोई घटना घटित होती है, अपने वेबपेज पर वे तुरंत अपडेट कर देते हैं और बाद में अगले दिन के अखबार में छपती है। इससे वे इलेक्ट्रानिक मीडिया के साथ कदम-से-कदम मिलाकर चल रहे हैं।
6. मनोरंजन (सिनेमा और गीत)
हिंदी के अंतरराष्ट्रीय प्रचार-प्रसार में हिंदी सिनेमा का बहुत बड़ा योगदान रहा है। आरंभ से हिंदी फिल्में और गीत विदेशियों को अपनी ओर आकर्षित करते रहे हैं। इस कारण बहुत से विदेशिओं ने प्रेरित होकर हिंदी सीखने में दिलचस्पी दिखाई। पहले इन फिल्मों और गीतों को संपूर्ण विश्व में पहुँचाना एक चुनौती भरा कार्य रहा है। इंटरनेट के आगमन के पश्चात यह समस्या खत्म हो गई। अब हम घर बैठे किसी भी फिल्म अथवा गीत को अपलोड और डाउनलोड कर सकते हैं। इस कारण हिंदी के विस्तार में अधिक गति आई है। आज हिंदी फिल्मों और गीतों के लिए अनेक वेबसाइटें उपलब्ध हैं। उदाहरणस्वरूप कुछ प्रमुख इस प्रकार हैं-
हिंदी फिल्में देखने या डाउनलोड करने हेतु-




हिंदी गीत देखने या डाउनलोड करने हेतु –




7. उपसंहार

इस प्रकार, वर्तमान समय में इंटरनेट पर हिंदी में विविध प्रकार की सामग्री बहुत अधिक मात्रा में उपलब्ध है। इससे हिंदी आधुनिक प्रौद्योगिकी के साथ कदम-से-कदम मिलाकर चलना संभव हो सका है। आज विश्व के किसी भी कोने में हम घर बैठे हिंदी में भाषा और साहित्य, स्वास्थ्य और चिकित्सा, समाचार और मनोरंजन संबंधी बिना किसी अवरोध के प्राप्त कर सकते हैं। इसके अलावा ज्ञान-विज्ञान और प्रौद्योगिकी संबंधी सामग्री भी प्रचुर मात्रा में ऑनलाइन उपलब्ध है। इसके लिए हजारों या लाखों की संख्या में वेबसाइटें तो हैं ही यू-ट्यूब आदि पर ऑडियो-विजुअल सामग्री में पर्याप्त मात्रा में देखी जा सकती है। यद्यपि यह सामग्री बहुत अधिक होते हुए भी विश्व अन्य प्रमुख भाषाओं, जैसे- अंग्रेजी आदि के सामने बहुत कम दिखाई पड़ती है। फिर भी ऑनलाइन हिंदी में उपलब्ध सामग्री की विशाल मात्रा को देखते हुए यह कहा जा सकता है कि शुरुआत अच्छी है, बस आवश्यकता है और अधिक मनोयोग से लगकर इसे समृद्ध करने की तथा जन-जन तक पहुँचाने की।

Sunday, 22 January 2017

India vs England ODI series

Heading :- रोमांचक मैच के साथ सिरीज का अंत ।
Sub-heading :- भारत ने वनडे सृंखला 2-1 से जीती ।
भारत और इंग्लैंड के बीच वनडे सीरीज के आखिरी मुकाबले मे इंग्लैंड ने भारत को 5 रनो से हराकर सीरीज क्लीन स्विप से बचा लेकिन 2-1 से हार गए ।
रोमांच से भरपूर :- सीरीज के तीसरे और आखिरी वनडे मैच मे 321 के विशाल लक्ष्य का पीछा कर रही भारतीय टीम को जीत के लिए आखिर ओवर मे 16 रन चाहिए थे, केदार जाघव ने पहली दो गेंदो मे छकका और चौका लगाया लेकिन टीम को जीत नही दिला सके और टीम 5 रनो से हार गई ।
इंग्लैंड की शानदार बल्लेबाजी :- इससे पहले टाॅस हारकर पहले बल्लेबाजी करने उतरी इंग्लैंड की शुरुआत अच्छी रही ओपनर जेसन राॅय ने 65 रन बनाए पहले विकेट के लिए 98 रन जोड़े । इसके बाद कप्तान मोगॅन, जौनी बेरिसटो और बेन स्टोकस के शानदार बल्लेबाजी से टीम 320 के स्कोर तक पहुंच सकी ।
भारत की खराब शुरुआत :- 321 रन के विशाल लक्ष्य का पीछा करने उतरी भारतीय टीम की शुरुआत बेहद खराब रही । ओपनर अजिंक्य रहाने  (1), ओर केएल राहुल  (11) सस्ते मे आउट हो गए । पुरी सीरीज मे भारत की ओपनिंग खराब रही ।
जाघव का कमाल :- खराब शुरुआत के बाद कप्तान विराट कोहली ने टीम को संभाला और  (55) रन की पारी खेली । 175 रन पर आघी टीम पैवेलियन लौट चुकी थी, इसके बाद हार्दिक पाड़या(55) और केदार जाघव(90) ने ने टीम को संभाला और टीम को स्कोर के करीब ले गए । सीरीज के पहले वनडे मे भी केदार जाघव ने शतक जड़ कर टीम को जीत दिलाई थी ।
टी20 की तैयारी :- टेस्ट और वनडे सीरीज मे भारत से बुरी तरह हारने के बाद इंग्लैंड अब भारत के खिलाफ 26 जनवरी से शुरु हो रही 3 टी20 मैचो की सीरीज खेलेगी । जिसका पहला मैच कानपुर मे 26 जनवरी को खेला जाएगा ।

प्रकृति का हनन

प्रकृति और मनुष्य का ऐसा शाश्वत संबंध है जिसे कभी भी अलग-अलग करके नही देखा जा सकता फिर भी मनुष्य प्रकृति के चक्र को निरंतर ध्वस्त करता चला जा रहा है । जाने-अनजाने प्रकृति के साथ खिलवाड़ करते रहने के कारण मनुष्य एक ऐसे मोड़ पर आ खड़ा हुआ है जहाँ वह प्रकृति के असंतुलन के लिए चिंतित तो होता दिखाई देता है लेकिन उसके समाधान के लिए अग्रसर होता दिखाई नही देता । पिछले कुछ वर्षो मे जैसे जैसे दुनिया की जनसंख्या बढी है वैसे ही प्रकृति पर भी प्रभाव पड़ा है । पर्यावरण को गर्म करने वाली विभिन्न प्रकार की गैसों का उत्सर्जन अपेक्षा से अघिक बढ गया है । विकास के नाम पर पूरे विश्व मे एक होड़ सी लग गई है जिसके लिए प्रकृति को नजरअंदाज करके मनुष्य दिनोंदिन सुख सुविघाओ के साधनो को जुटाने मे लगा रहता है । भूमि की उपज मे जो कमी आई है उसके लिए भी पर्यावरण का असंतुलन ही कही ना कही जिम्मेदार है । इसका जलवायु पर भी इतना गहरा प्रभाव पड़ा है कि आज हिमालय ग्लेशियर तेजी से पिघलते जा रहा है ओर समुद्र का जलस्तर बढता ही जा रहा है इसके अलावा दूसरी ओर नदियो का जलस्तर, गर्मी बढ़ने के कारण घटता ही जा रहा है । इन सभी समस्याओ से उबरने के लिए आवश्यक है कि विश्व का हरेक व्यक्ति इस बात के प्रति सचेत व सजग रहे कि प्रकृति यदि हमारे विकास के लिए वरदान है तो वास्तविक महत्व को समझते हुए उसके द्वारा दी गई प्राकृतिक संपदाओ कि हम रक्षा करे । साथ ही विकसित देशो को भी सोचना होगा कि वे प्रदुषण संबंधी सभी कारणो से अवगत होकर विकास के क्षेत्र मे महत्वपूर्ण कदम उठाए । विश्व के सभी देशो को मिलकर प्रकृति के संतुलन को बनाए रखने मे एक साथ मिलकर कदम उठाना होगा ।